गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाए

गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाए

किमत्र बहुनोक्तेन शास्त्रकोटि शतेन च । दुर्लभा चित्त विश्रान्तिः विना गुरुकृपां परम् ॥

 (भावार्थ :बहुत कहने से क्या ? करोडों शास्त्रों से भी क्या ? चित्त की परम् शांति, गुरु के बिना मिलना दुर्लभ है)

गुरु की महत्ता में सहस्त्र शब्द भी कम होंगे , जीवन में आये सभी गुरुदेवो को कोटि कोटि प्रणाम !!!

आप सभी को इस पावन पर्व की हार्दिक शुभ कामनाए